ग्रीन बिजली बन सकती है पेट्रोल और कोयले का विकल्प?

1483
24 Jan 2023
7 min read

News Synopsis

Latest Updated on 24 January 2023

सरकार के पास एक नई हरित हाइड्रोजन Green Hydrogen नीति है, जो 2030 तक 50 लाख टन हाइड्रोजन के उत्पादन को प्रोत्साहित करेगी। यह जीवाश्म ईंधन Fossil Fuel पर हमारी निर्भरता को कम करने में मदद करेगी, सौर और पवन ऊर्जा Wind Energy भारत में नई तापीय ऊर्जा की तुलना में पहले से ही बहुत सस्ती हैं। कुछ समय के लिए उद्योगों में कोयले का उपयोग करने की आवश्यकता है।

हाइड्रोजन बिजली Hydrogen Power से बनाया जाता है, और इसका उपयोग स्टील और सीमेंट जैसी चीजों को बिजली देने के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग खाद बनाने में भी किया जा सकता है।

इस तकनीक के साथ कुछ जोखिम भी हैं। उदाहरण के लिए बड़े आर्थिक और सुरक्षा जोखिम हैं। यह अभी भी प्रयोग किया जा रहा है, इसलिए हम नहीं जानते कि यह सफल होगा या असफल। अगर यह फ्लॉप साबित होती है, तो सरकार को इस पर पैसा और संसाधन खर्च करने में सावधानी बरतनी चाहिए।

हमें यह सुनिश्चित करने के लिए इस दिशा में अनुसंधान को बढ़ावा देने की आवश्यकता है, कि हम अपने 2030 के लक्ष्य को प्राप्त कर सकें। इस नई तकनीक का परीक्षण करने के लिए पायलट संयंत्र Pilot Plant स्थापित करने की आवश्यकता होगी, लेकिन हमें एक कठिन लक्ष्य निर्धारित नहीं करना चाहिए - हमें केवल उच्च लक्ष्य रखना चाहिए क्योंकि यदि हम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेते हैं, तो हम प्रौद्योगिकी Technology के विफल होने पर भी निरंतर धन को उचित ठहरा सकते हैं। भविष्य में  इसके अलावा अगर चीजें काम नहीं करती हैं, तो हमारे पास बैकअप योजना होनी चाहिए।

सौ साल पहले राइट बंधुओं Wright Brothers ने एक बहुत भारी जहाज बनाया था। जिसमें काफी ईंधन की खपत होती थी। लेकिन कंपनियों ने तब से विशालकाय स्टील एयरशिप Steel Airship बनाए हैं, जो हाइड्रोजन से भरे हुए हैं। इन हवाई पोतों को आगे बढ़ने के लिए अधिक ऊर्जा की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए वे बहुत से लोगों को लंबी यात्राओं पर ले जा सकते हैं। उनका भविष्य बहुत उज्जवल दिखाई दे रहा है!

Last Updated on 19 August 2021

बिजली संयंत्र बिजली पैदा करने के लिए कोयले को जलाते हैं, जो अधिकांश तौर पर सल्फर डाइऑक्साइड Sulphur Dioxide और नाइट्रोजन ऑक्साइड Nitrogen Oxide छोड़ता है और यही हानिकारक रसायन हवा में मिलते हैं और पर्यावरण को दूषित करते हैं। इससे बचने का एक सबसे अच्छा उपाय है ग्रीन बिजली। ग्रीन बिजली प्राकृतिक संसाधनों, जैसे सूर्य के प्रकाश, हवा या पानी से उत्पन्न होती है। इन्हें हम सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, भूतापीय ऊर्जा, बायोमास आदि नाम से जानते हैं। इन ऊर्जा संसाधनों की कुंजी यह है कि ये वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों को छोड़ने जैसे कारकों के माध्यम से पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

अमेरिका में एक ऐसा चार्जिंग स्टेशन बना है जहाँ आप अपनी इलेक्ट्रिक कार को ग्रीन बिजली से चार्ज कर सकते हैं। हालांकि पेट्रोल की तुलना में यह काफी महंगा है लेकिन इसके ज़रिए हम कोयले और तेल के इस्तेमाल को चरणबद्ध तरीके से हटाने और उत्सर्जन घटाने में अपना योगदान दे सकते हैं। टेक्नोलॉजी के इतने इस्तेमाल के बावजूद भी आज बहुत सारे क्षेत्रों में बिजली भी नहीं है इसीलिए पेट्रोल और कोयला का विकल्प तो ग्रीन बिजली बन सकती है, लेकिन इस प्रक्रिया में काफी समय लगेगा। एक बात तो तय है कि कार्बन उत्सर्जन को कम करने में यह प्रक्रिया बहुत हद तक अपना योगदान देगी।

Podcast

TWN In-Focus