facebook-pixel
Featured Advertisement
Think With Niche
Success Motivation

दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला से सीखें सफलता के गुण

Success Motivation

दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला से सीखें सफलता के गुण

learn-the-qualities-of-success-from-veteran-investor-rakesh-jhunjhunwala

Post Highlights

आज हम आपको दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला की कही बातों के माध्यम से बताएंगे कि सफलता आप किस तरह अर्जित कर सकते हैं। राकेश झुनझुनवाला का मानना था लोग जब आपकी तारीफ करें तो सावधान हो जाएं, क्योंकि सबसे बड़ी गलतियां तभी होती हैं जब आपका अच्छा समय चल रहा होता है। हमें उम्मीद है कि आप भी दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला कि इन तमाम बातों से कुछ सीखेंगे और जब भी निवेश करेंगे या किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ेंगे, तो इन बातों का ध्यान रखकर सफल बनेंगे।

भारत में राकेश झुनझुनवाला को कौन नहीं जानता। यह वह निवेशक हैं जिन्होंने शेयर बाजार में निवेश करके अपनी संपत्ति को कई गुना बढ़ा लिया। शुरुआती दिनों से ही व्यापार से इनका बड़ा गहरा नाता रहा है। राकेश झुनझुनवाला बताते हैं कि शेयर बाजार में उनकी रुचि बचपन से ही थी। वह बचपन के दिनों से ही अपने पिताजी से शेयर मार्केट को लेकर जानकारी लिया करते थे। वह सवाल किया करते थे कि शेयर में दाम बढ़ते या घटते क्यों है। उनके पिताजी ज्यादा सहायता तो नहीं करते थे, लेकिन एक सही रास्ता जरूर बता दिया करते थे। उनके पिताजी ने कहा अखबार पढ़ो और जिस संस्था की खबर छपी हो उसका बाजार में खेल देखो। करीब 13-14 साल की उम्र से राकेश झुनझुनवाला ने अपना रुझान शेयर बाजार में लगा लिया था और आप आज देख सकते हैं कि राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) निवेश के क्षेत्र में कितनी बड़ी शख्सियत बन चुके हैं। आज हम आपको दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला की कही बातों के माध्यम से बताएंगे कि सफलता आप किस तरह अर्जित कर सकते हैं।

पिताजी ने कह दिया था मुझ से पैसा मत मांगना

राकेश झुनझुनवाला से जब बीकॉम करने के बाद पिताजी ने पूछा कि क्या करोगे, तो उन्होंने जवाब दिया कि वह शेयर बाजार में आगे बढ़ना चाहते हैं, लेकिन पिताजी ने उन्हें सीए करने की सलाह दी। सीए करने के बाद भी राकेश झुनझुनवाला का मन नहीं बदला और वह अब भी शेयर बाजार में ही निवेश करना चाहते थे। उनके पिताजी ने पैसा देने से इंकार कर दिया था और कहा था कि खुद नौकरी करो और पैसा लगाओ। महज 5000 रुपए से शेयर बाजार में राकेश झुनझुनवाला ने शुरुआत की, कई जिम्मेदारियां होने के बावजूद भी वह इस में लगे रहे और उन्होंने सफलता की ऊंचाइयों को छुआ।

 6 गुना ज्यादा ब्याज देकर जुटाया पैसा

एक कार्यक्रम की बातचीत में राकेश झुनझुनवाला ने बताया था कि उस जमाने में 12 प्रतिशत ब्याज लिया जाता था लेकिन मैंने पैसा जुटाने के लिए 18 प्रतिशत ब्याज देने का लालच देकर पैसे जुटाए और शेयर बाजार में लगा दिए। उनके सूझ-बूझ भरे फैसलों के बाद उन्होंने सन 1985 में करीब 12.50 लाख रुपए जुटाए और इन 12.50 लाख रुपयों से उन्होंने 30 लाख रुपयों की कमाई की, यह सब रातों-रात नहीं हुआ उन्हें इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी और शेयर बाजार में अपने दिमाग का इस्तेमाल कर उन्होंने इस राशि को कई गुना बढ़ाया। इससे हम यह सीख ले सकते हैं कि किस तरह शेयर बाजार में सूझ-बूझ और शोध करके पैसा लगाया जा सकता है। 

2 करोड़ से 20 करोड़ तक कैसे पहुंचे

यह बात है 1989 के बजट की, बजट आने को था उस समय बाजार शाम 6:00 से 9:00 बजे तक खुला था। उस समय राकेश झुनझुनवाला ने 2 करोड़ का निवेश किया, उन्हें उम्मीद थी कि यह बजट उन्हें काफी मुनाफा देगा और हुआ भी यूं ही, शाम 6:00 बजे से 9:00 के बीच पूरा खेल बदल गया। उनके लगाए हुए 2 करोड़ रुपए से वह 20 करोड़ के मालिक बन गए।

यह बातें सीखने वाली हैं...

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) बताते हैं कि सफलता उन्हें सब्र और मेहनत करके मिली है साथ ही वह कहते हैं कि उन्होंने हमेशा हार को मुस्कुरा कर स्वीकार किया है। राकेश झुनझुनवाला को कई बार नुकसान भी झेलना पड़ा, लेकिन वह उस नुकसान से हमेशा सीखा करते थे और गलती करने के डर से वह कभी पीछे नहीं हटते थे। उनका मानना था कि अगर आप गलती करने से डर गए, तो आप कभी फैसला नहीं ले सकते। एक संस्था में निवेश के दौरान उन्हें करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ, लेकिन उन्होंने संस्था पर कोई दोष नहीं दिया। उनका मानना था कि अपने निर्णय पर खुद को दोषी मानना ही सही विकल्प है। वह अपने निर्णयों की जिम्मेदारी खुद लिया करते थे। किसी को दोष नहीं दिया करते थे। गलतियां करके उनसे सीखकर वह गलती फिर नहीं करना, सफलता का सबसे अच्छा रास्ता है। सभी को यह बात अपनी जिंदगी में भी शामिल करनी चाहिए, सफलता जरूर मिलेगी।

राकेश झुनझुनवाला का मानना था लोग जब आपकी तारीफ करें तो सावधान हो जाएं, क्योंकि सबसे बड़ी गलतियां तभी होती हैं जब आपका अच्छा समय चल रहा होता है। हमें उम्मीद है कि आप भी दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला कि इन तमाम बातों से कुछ सीखेंगे और जब भी निवेश करेंगे या किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ेंगे, तो इन बातों का ध्यान रखकर सफल बनेंगे।

भारत में राकेश झुनझुनवाला को कौन नहीं जानता। यह वह निवेशक हैं जिन्होंने शेयर बाजार में निवेश करके अपनी संपत्ति को कई गुना बढ़ा लिया। शुरुआती दिनों से ही व्यापार से इनका बड़ा गहरा नाता रहा है। राकेश झुनझुनवाला बताते हैं कि शेयर बाजार में उनकी रुचि बचपन से ही थी। वह बचपन के दिनों से ही अपने पिताजी से शेयर मार्केट को लेकर जानकारी लिया करते थे। वह सवाल किया करते थे कि शेयर में दाम बढ़ते या घटते क्यों है। उनके पिताजी ज्यादा सहायता तो नहीं करते थे, लेकिन एक सही रास्ता जरूर बता दिया करते थे। उनके पिताजी ने कहा अखबार पढ़ो और जिस संस्था की खबर छपी हो उसका बाजार में खेल देखो। करीब 13-14 साल की उम्र से राकेश झुनझुनवाला ने अपना रुझान शेयर बाजार में लगा लिया था और आप आज देख सकते हैं कि राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) निवेश के क्षेत्र में कितनी बड़ी शख्सियत बन चुके हैं। आज हम आपको दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला की कही बातों के माध्यम से बताएंगे कि सफलता आप किस तरह अर्जित कर सकते हैं।

पिताजी ने कह दिया था मुझ से पैसा मत मांगना

राकेश झुनझुनवाला से जब बीकॉम करने के बाद पिताजी ने पूछा कि क्या करोगे, तो उन्होंने जवाब दिया कि वह शेयर बाजार में आगे बढ़ना चाहते हैं, लेकिन पिताजी ने उन्हें सीए करने की सलाह दी। सीए करने के बाद भी राकेश झुनझुनवाला का मन नहीं बदला और वह अब भी शेयर बाजार में ही निवेश करना चाहते थे। उनके पिताजी ने पैसा देने से इंकार कर दिया था और कहा था कि खुद नौकरी करो और पैसा लगाओ। महज 5000 रुपए से शेयर बाजार में राकेश झुनझुनवाला ने शुरुआत की, कई जिम्मेदारियां होने के बावजूद भी वह इस में लगे रहे और उन्होंने सफलता की ऊंचाइयों को छुआ।

 6 गुना ज्यादा ब्याज देकर जुटाया पैसा

एक कार्यक्रम की बातचीत में राकेश झुनझुनवाला ने बताया था कि उस जमाने में 12 प्रतिशत ब्याज लिया जाता था लेकिन मैंने पैसा जुटाने के लिए 18 प्रतिशत ब्याज देने का लालच देकर पैसे जुटाए और शेयर बाजार में लगा दिए। उनके सूझ-बूझ भरे फैसलों के बाद उन्होंने सन 1985 में करीब 12.50 लाख रुपए जुटाए और इन 12.50 लाख रुपयों से उन्होंने 30 लाख रुपयों की कमाई की, यह सब रातों-रात नहीं हुआ उन्हें इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी और शेयर बाजार में अपने दिमाग का इस्तेमाल कर उन्होंने इस राशि को कई गुना बढ़ाया। इससे हम यह सीख ले सकते हैं कि किस तरह शेयर बाजार में सूझ-बूझ और शोध करके पैसा लगाया जा सकता है। 

2 करोड़ से 20 करोड़ तक कैसे पहुंचे

यह बात है 1989 के बजट की, बजट आने को था उस समय बाजार शाम 6:00 से 9:00 बजे तक खुला था। उस समय राकेश झुनझुनवाला ने 2 करोड़ का निवेश किया, उन्हें उम्मीद थी कि यह बजट उन्हें काफी मुनाफा देगा और हुआ भी यूं ही, शाम 6:00 बजे से 9:00 के बीच पूरा खेल बदल गया। उनके लगाए हुए 2 करोड़ रुपए से वह 20 करोड़ के मालिक बन गए।

यह बातें सीखने वाली हैं...

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) बताते हैं कि सफलता उन्हें सब्र और मेहनत करके मिली है साथ ही वह कहते हैं कि उन्होंने हमेशा हार को मुस्कुरा कर स्वीकार किया है। राकेश झुनझुनवाला को कई बार नुकसान भी झेलना पड़ा, लेकिन वह उस नुकसान से हमेशा सीखा करते थे और गलती करने के डर से वह कभी पीछे नहीं हटते थे। उनका मानना था कि अगर आप गलती करने से डर गए, तो आप कभी फैसला नहीं ले सकते। एक संस्था में निवेश के दौरान उन्हें करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ, लेकिन उन्होंने संस्था पर कोई दोष नहीं दिया। उनका मानना था कि अपने निर्णय पर खुद को दोषी मानना ही सही विकल्प है। वह अपने निर्णयों की जिम्मेदारी खुद लिया करते थे। किसी को दोष नहीं दिया करते थे। गलतियां करके उनसे सीखकर वह गलती फिर नहीं करना, सफलता का सबसे अच्छा रास्ता है। सभी को यह बात अपनी जिंदगी में भी शामिल करनी चाहिए, सफलता जरूर मिलेगी।

राकेश झुनझुनवाला का मानना था लोग जब आपकी तारीफ करें तो सावधान हो जाएं, क्योंकि सबसे बड़ी गलतियां तभी होती हैं जब आपका अच्छा समय चल रहा होता है। हमें उम्मीद है कि आप भी दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला कि इन तमाम बातों से कुछ सीखेंगे और जब भी निवेश करेंगे या किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ेंगे, तो इन बातों का ध्यान रखकर सफल बनेंगे।