facebook-pixel
Featured Advertisement
Think With Niche
Success Business Success Tips

थोड़े में ज्यादा संभावनाओं को खोजें

Success Business Success Tips

थोड़े में ज्यादा संभावनाओं को खोजें

explore-more-possibilities-in-less

Post Highlights

आज हम आपको उदाहरण के माध्यम से यह बताएंगे की कम संसाधनों में भी सफलता अर्जित की जा सकती है और उन कम संसाधनों का इस्तेमाल करके किस तरह आगे बढ़ा जा सकता है।

सफलता पाने के रास्ते पर चल रहे कई लोग यह सोचते हैं कि उनके पास संसाधनों की कमी है और वह इस वजह से सफलता हासिल नहीं कर पा रहे हैं। सफलता, संसाधनों की मोहताज नहीं है। सफलता तो केवल आपकी मेहनत, लगन और आपकी योजना के प्रति समर्पण में छुपी होती है। इस तरह की मानसिकता बना लेना कि मेरे पास तो कुछ चीजों की कमी है और इस वजह से मैं पीछे रह गया हूं। यह मानसिकता आपको कभी सफल नहीं बना सकती। सफल होने के लिए जो आपके पास मौजूद है उसमें ही आपको संभावनाओं की तलाश करनी चाहिए।

 आज हम आपको उदाहरण के माध्यम से यह बताएंगे कि कम संसाधनों में भी सफलता अर्जित की जा सकती है और उन कम संसाधनों का इस्तेमाल करके किस तरह आगे बढ़ा जा सकता है। हमें केवल एक शुरुआत की ज़रूरत होती है और हम उस शुरुआत को करने से बचते हैं। शुरुआत करने से घबराए नहीं, एक छोटी सी शुरुआत ही आपको बड़े मुकाम तक ले जाने की कुंजी है। 

सफलता पाने के लिए आपके पास सब कुछ पर्याप्त है 

अगर आपकी ज़िन्दगी में आपके हाथ, पैर अच्छी तरह चल रहे हैं आप अच्छी सांस ले रहे हैं और आपके पास खाने के लिए दो वक्त की रोटी है तो यह सब पर्याप्त है। जीवन में इंसान को सबसे पहले यही चाहिए होता है। अगर आपके पास यह सब मौजूद है, तो आप अपने आप को कभी भी कम संसाधनों का दुखड़ा रोने पर मजबूर नहीं कर सकते। सफलता पाने के लिए आपको सिर्फ एक अच्छी योजना की ज़रूरत होती है। अगर आप की योजना सचमुच अच्छी है तो आपको संसाधन धीरे-धीरे जरूर मिलने लगेंगे।

आप शुरुआत कम से कर सकते हैं क्योंकि कम संसाधन की मदद से शुरू किए हुए काम भी जरूर बड़े बनते हैं। उदाहरण के रूप में समझा जाए तो अगर आप किसी खाने-पीने की दुकान को खोलना चाहते हैं, तो खाने पीने की दुकान को खोलने के लिए आप सबसे पहले यह ना सोचें कि मैं बड़ा रेस्टोरेंट ही खोल के बैठ जाऊं। बड़ा रेस्टोरेंट खोलने के लिए और बनाने के लिए ढेर सारा पैसा ज़रूर लगेगा, लेकिन अगर आपको खाने-पीने के व्यवसाय में उतरना ही है तो आप पहले छोटे रूप में  भी इसे शुरू कर सकते हैं। जैसे कि आप घर से कुछ बनाकर लोगों को डिलीवर कर सकते हैं। अगर यह सफल होता है, तो आप इसे धीरे-धीरे किसी दुकान पर, फिर दुकान के बाद अगर दुकान सफल होती है तो एक बड़े रेस्टोरेंट में तब्दील कर सकते हैं।

दुखड़ा रोना बंद करें 

कई बार लोगों को देखा जाता है कि वह अपना दुखड़ा 17 लोगों के सामने रोते रहते हैं कि हमारे पास यह होता तो हम सब हासिल कर लेते हैं, हमारे पास वह होता तो हम सब कर लेते। यह केवल असफल व्यक्तियों के दुखड़ा रोने जैसा वाक्य हैं। अगर आपको सफल होना है, तो आप दुखड़ा रोने के बजाय कम संसाधनों में भी तो आगे बढ़ सकते हैं। अगर आपके पास संसाधन कम हैं, तो अपनी योजना को इतना अच्छा बना लीजिए कि कोई आपके लिए संसाधनों की भीड़ लगाने पर मजबूर हो जाए। केवल दुखड़ा रोते रहेंगे कि हमारे पास कमी है तो कोई आपके पास आकर आपकी उस कमी को पूरा नहीं करने वाला।

उदाहरण के रूप में समझें तो अगर आप खाने-पीने की दुकान खोलना चाहते हैं और आप हमेशा यह रोना रोते रहेंगे की मेरे पास तो इस काम के लिए पैसा नहीं है, मेरे पास तो इसके लिए लोग नहीं है, मैं इसको करूंगा तो इसमें सफल कैसे हो पाऊंगा। यह तमाम बातें आपको कभी आगे नहीं बढ़ने देंगी। इसके बजाय अगर आप यह सोचे कि मैं छोटे रूप में, जो मेरे पास मौजूद है, उनमें संभावनाओं को ढूंढ लूंगा और सकारात्मक ऊर्जा रखूंगा, तो आप अवश्य सफल होंगे और लोग भी आपकी मदद के लिए किसी न किसी रूप में जुट जाएंगे।

शुरुआत करने से डरते हैं, शुरुआत कर लेंगे तो सफल जरूर होंगे

कई बार देखा जाता है और इस बात को आंकड़े भी बताते हैं कि कुछ लोग के पास सफलता पाने के लिए अनेकों योजनाएं मौजूद होती हैं लेकिन वह शुरुआत करने से हमेशा पीछे रह जाते हैं। अगर आप अपने काम की शुरुआत नहीं कर सकते, तो आपको संसाधनों का रोना रोने की भी कोई जरूरत नहीं है।

किसी काम में सफल होने के लिए संसाधनों से पहले आपको उसकी अच्छी खोज और समझ होनी चाहिए और अगर अच्छी खोज और समझ के बाद उसकी शुरुआत आप कर दें, तो संसाधन कभी इसके बीच में नहीं आएंगे।

आप देखेंगे कि धीरे-धीरे आपके काम छोटे रूप में ही सही, लेकिन आगे जरूर बढ़ रहे हैं। काम कोई सा भी हो, किसी क्षेत्र का भी हो, केवल एक शुरुआत मांगता है। अगर शुरुआत कर दी, तो आपको सफलता की तरफ जरूर ले जाता है। इसलिए आप शुरुआत जरूर करें। शुरुआत करना किसी भी काम को बड़े मुकाम तक ले जाने की एक मात्र सवारी है।

शुरुआत करने के बाद सब कुछ लगने लगता है आसान

कम संसाधनों में ही सही अगर आप सही शुरुआत कर लेंगे तो आपको सारी चीजें आसान लगने लगेगी। आपको लगने लगेगा कि यह शुरुआत मैंने 1 साल पहले कर ली होती तो शायद मैं आज किसी और मुकाम पर होता। तो संसाधनों की चिंता ना करें, आपके पास जितने भी संसाधन हैं आप उनसे शुरुआत जरूर करें और शुरुआत करने के बाद आप जरूर पाएंगे कि यह काम आपको बेहद आसानी से बड़े स्तर पर ले जा रहा हैं। आप खुद ऐसा महसूस करने लगेंगे कि यह काफी आसान था मुझे इसे काफी पहले ही कर लेना चाहिए था।

उम्मीद करते हैं कि अगर आप भी अपने जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं, कुछ करना चाहते हैं और आपको संसाधनों की कमी महसूस होती है, तो आप इस लेख को पढ़ने के बाद उन कमियों को दूर रखकर काम की शुरुआत जरूर करेंगे और संसाधन कभी आपके काम में खलल नहीं बनेंगे।

सफलता पाने के रास्ते पर चल रहे कई लोग यह सोचते हैं कि उनके पास संसाधनों की कमी है और वह इस वजह से सफलता हासिल नहीं कर पा रहे हैं। सफलता, संसाधनों की मोहताज नहीं है। सफलता तो केवल आपकी मेहनत, लगन और आपकी योजना के प्रति समर्पण में छुपी होती है। इस तरह की मानसिकता बना लेना कि मेरे पास तो कुछ चीजों की कमी है और इस वजह से मैं पीछे रह गया हूं। यह मानसिकता आपको कभी सफल नहीं बना सकती। सफल होने के लिए जो आपके पास मौजूद है उसमें ही आपको संभावनाओं की तलाश करनी चाहिए।

 आज हम आपको उदाहरण के माध्यम से यह बताएंगे कि कम संसाधनों में भी सफलता अर्जित की जा सकती है और उन कम संसाधनों का इस्तेमाल करके किस तरह आगे बढ़ा जा सकता है। हमें केवल एक शुरुआत की ज़रूरत होती है और हम उस शुरुआत को करने से बचते हैं। शुरुआत करने से घबराए नहीं, एक छोटी सी शुरुआत ही आपको बड़े मुकाम तक ले जाने की कुंजी है। 

सफलता पाने के लिए आपके पास सब कुछ पर्याप्त है 

अगर आपकी ज़िन्दगी में आपके हाथ, पैर अच्छी तरह चल रहे हैं आप अच्छी सांस ले रहे हैं और आपके पास खाने के लिए दो वक्त की रोटी है तो यह सब पर्याप्त है। जीवन में इंसान को सबसे पहले यही चाहिए होता है। अगर आपके पास यह सब मौजूद है, तो आप अपने आप को कभी भी कम संसाधनों का दुखड़ा रोने पर मजबूर नहीं कर सकते। सफलता पाने के लिए आपको सिर्फ एक अच्छी योजना की ज़रूरत होती है। अगर आप की योजना सचमुच अच्छी है तो आपको संसाधन धीरे-धीरे जरूर मिलने लगेंगे।

आप शुरुआत कम से कर सकते हैं क्योंकि कम संसाधन की मदद से शुरू किए हुए काम भी जरूर बड़े बनते हैं। उदाहरण के रूप में समझा जाए तो अगर आप किसी खाने-पीने की दुकान को खोलना चाहते हैं, तो खाने पीने की दुकान को खोलने के लिए आप सबसे पहले यह ना सोचें कि मैं बड़ा रेस्टोरेंट ही खोल के बैठ जाऊं। बड़ा रेस्टोरेंट खोलने के लिए और बनाने के लिए ढेर सारा पैसा ज़रूर लगेगा, लेकिन अगर आपको खाने-पीने के व्यवसाय में उतरना ही है तो आप पहले छोटे रूप में  भी इसे शुरू कर सकते हैं। जैसे कि आप घर से कुछ बनाकर लोगों को डिलीवर कर सकते हैं। अगर यह सफल होता है, तो आप इसे धीरे-धीरे किसी दुकान पर, फिर दुकान के बाद अगर दुकान सफल होती है तो एक बड़े रेस्टोरेंट में तब्दील कर सकते हैं।

दुखड़ा रोना बंद करें 

कई बार लोगों को देखा जाता है कि वह अपना दुखड़ा 17 लोगों के सामने रोते रहते हैं कि हमारे पास यह होता तो हम सब हासिल कर लेते हैं, हमारे पास वह होता तो हम सब कर लेते। यह केवल असफल व्यक्तियों के दुखड़ा रोने जैसा वाक्य हैं। अगर आपको सफल होना है, तो आप दुखड़ा रोने के बजाय कम संसाधनों में भी तो आगे बढ़ सकते हैं। अगर आपके पास संसाधन कम हैं, तो अपनी योजना को इतना अच्छा बना लीजिए कि कोई आपके लिए संसाधनों की भीड़ लगाने पर मजबूर हो जाए। केवल दुखड़ा रोते रहेंगे कि हमारे पास कमी है तो कोई आपके पास आकर आपकी उस कमी को पूरा नहीं करने वाला।

उदाहरण के रूप में समझें तो अगर आप खाने-पीने की दुकान खोलना चाहते हैं और आप हमेशा यह रोना रोते रहेंगे की मेरे पास तो इस काम के लिए पैसा नहीं है, मेरे पास तो इसके लिए लोग नहीं है, मैं इसको करूंगा तो इसमें सफल कैसे हो पाऊंगा। यह तमाम बातें आपको कभी आगे नहीं बढ़ने देंगी। इसके बजाय अगर आप यह सोचे कि मैं छोटे रूप में, जो मेरे पास मौजूद है, उनमें संभावनाओं को ढूंढ लूंगा और सकारात्मक ऊर्जा रखूंगा, तो आप अवश्य सफल होंगे और लोग भी आपकी मदद के लिए किसी न किसी रूप में जुट जाएंगे।

शुरुआत करने से डरते हैं, शुरुआत कर लेंगे तो सफल जरूर होंगे

कई बार देखा जाता है और इस बात को आंकड़े भी बताते हैं कि कुछ लोग के पास सफलता पाने के लिए अनेकों योजनाएं मौजूद होती हैं लेकिन वह शुरुआत करने से हमेशा पीछे रह जाते हैं। अगर आप अपने काम की शुरुआत नहीं कर सकते, तो आपको संसाधनों का रोना रोने की भी कोई जरूरत नहीं है।

किसी काम में सफल होने के लिए संसाधनों से पहले आपको उसकी अच्छी खोज और समझ होनी चाहिए और अगर अच्छी खोज और समझ के बाद उसकी शुरुआत आप कर दें, तो संसाधन कभी इसके बीच में नहीं आएंगे।

आप देखेंगे कि धीरे-धीरे आपके काम छोटे रूप में ही सही, लेकिन आगे जरूर बढ़ रहे हैं। काम कोई सा भी हो, किसी क्षेत्र का भी हो, केवल एक शुरुआत मांगता है। अगर शुरुआत कर दी, तो आपको सफलता की तरफ जरूर ले जाता है। इसलिए आप शुरुआत जरूर करें। शुरुआत करना किसी भी काम को बड़े मुकाम तक ले जाने की एक मात्र सवारी है।

शुरुआत करने के बाद सब कुछ लगने लगता है आसान

कम संसाधनों में ही सही अगर आप सही शुरुआत कर लेंगे तो आपको सारी चीजें आसान लगने लगेगी। आपको लगने लगेगा कि यह शुरुआत मैंने 1 साल पहले कर ली होती तो शायद मैं आज किसी और मुकाम पर होता। तो संसाधनों की चिंता ना करें, आपके पास जितने भी संसाधन हैं आप उनसे शुरुआत जरूर करें और शुरुआत करने के बाद आप जरूर पाएंगे कि यह काम आपको बेहद आसानी से बड़े स्तर पर ले जा रहा हैं। आप खुद ऐसा महसूस करने लगेंगे कि यह काफी आसान था मुझे इसे काफी पहले ही कर लेना चाहिए था।

उम्मीद करते हैं कि अगर आप भी अपने जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं, कुछ करना चाहते हैं और आपको संसाधनों की कमी महसूस होती है, तो आप इस लेख को पढ़ने के बाद उन कमियों को दूर रखकर काम की शुरुआत जरूर करेंगे और संसाधन कभी आपके काम में खलल नहीं बनेंगे।