facebook-pixel
Featured Advertisement
Think With Niche
Entrepreneurship Skill Development

Designing की क्षमता देगी करियर को नई उड़ान

Entrepreneurship Skill Development

Designing की क्षमता देगी करियर को नई उड़ान

Post Highlights

किसी भी तरह की कल्पना को अपने हुनर से वास्तविकता में आकार देने की कला डिजाइनिंग कहलाती है। इसके अंतर्गत ढेरों Categories हैं। आप जिस भी तरह के कार्य में कुशल हैं या माहिर हैं बस वही आपकी कला की designing category है। कृपया उसे पहचानकर, समझकर उसमें और दक्षता प्राप्त करने का प्रयास करें। आइये अब सभी प्रकार की designing category को भी समझ लेतें है।

अलावा नई सोच के साथ आभूषणों की डिजाइन में भी बदलाव की माँग भी बढ़ी है, इसने नए jewellry design करने वाली प्रतिभाओं को नए अवसर दिए हैं। आज के युवा अलग-अलग संस्थाओं से सीखकर इन प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़कर अनुभव प्राप्त करतें हैं।

 ब्राण्ड डिजाइनिंग ( Brand  Designing )

यह एक नया व्यवसाय है। किस भी कम्पनी में किसी भी उत्पाद को launch करने से पहले brand designer यह तय करता है कि उसका logo कैसा होगा ? उत्पाद दिखने में कैसा होगा, उसे किस प्रकार से लोगों के सामने प्रस्तुत किया जाएगा। इस पूरी योजना  तैयारी की Brand Designer की ही होती है ।

 ग्राफिक डिजाइनिंग (Graphic Designing)

ऐसे उत्साही लोग जो तकनीक या विज्ञान के क्षेत्र से ना जुड़े होने के बाद भी सूचना तकनीक IT Industry या Designing की क्षमता देगी करियर को नई उड़ान ''designing'' यह शब्द दिमाग में आते ही तरह-तरह कि रचनात्मक कल्पनाएँ उमड़ने लगती हैं। कभी लगता है कि शायद कपड़ों पर कि गई कारीगरी ही डिजाइनिंग है  तो कभी इन्टरनेट पर तैयार की गई कोई योजना डिजाइनिंग लगती है। आजकल फिल्मों की शूटिंग के लिए जो काल्पनिक जगहें बनाईं जाती है वह भी सेट डिजाइनिंग में ही आता है तो आखिर डिजाइनिंग है क्या और इसमें क्या-क्या शामिल है ? आइये आज यह समझ लेते हैं, किसी भी तरह की कल्पना को अपने हुनर से वास्तविकता में आकार देने की कला डिजाइनिंग कहलाती है। इसके अंतर्गत ढेरों Categories हैं। आप जिस भी तरह के कार्य में कुशल हैं या माहिर हैं बस वही आपकी कला की designing category है। कृपया उसे पहचानकर, समझकर उसमें और दक्षता प्राप्त करने का प्रयास करें। आइये अब सभी प्रकार की  designing category को भी समझ लेतें है-

 फैशन डिजाइनिंग (Fashion Designing )

यदि आपको अलग-अलग प्रकार के कपड़ों को डिजाईन करने, आकार देने और विभिन्न प्रकार के वस्त्रों को अलग-अलग तरह से पहनने, सजाने-सँवारने  का शौक है तो यह करियर आपके लिए बेहद उपयुक्त है। आजकल बहुत सारे fashion designers बहुत सारे हुनरमंद कारीगरों के साथ मिलकर बेहद सुंदर वस्त्रों की कल्पनाओं को मिलकर साकार करतें हैं और अच्छी आमदनी कमातें हैं। हर काम की शुरुआत अकेले ही होती है, आवश्यक नहीं कि किसी बहुत बड़े fashion institute से ही आप यह काम सीखें, यदि आपकी रूचि इस क्षेत्र में है और काबिलियत है तो आप खुद से, इन्टरनेट से और अपने आस-पास के किसी छोटे institute से भी यह हुनर सीख सकतें हैं। आजकल हर कोर्स online क्लासेज से भी किये जातें हैं जिससे आपको मदद मिलेगी।

 वेब डिजाइनिंग (Web Designing )

वेब डिजाइनिंग कई तरह की होती हैं पर इसके लिए आपमें तकनीक और संचार को उपयोग करने का शौक होना चाहिए तभी तो आप web Designing से जुड़ी पहेलियों की गुत्थी सुलझा पाएंगे। आजकल हर संस्था या व्यक्ति किसी ऐसे विशेषज्ञ की तलाश में रहतें हैं जो इन्टरनेट का तो ज्ञाता हो ही इसके अलावा तरह-तरह की वेबसाइट डिजाइनिंग, Canava, Digital development, Online Seo, रोज़मर्रा की तकनीक का उपयोग उनकी तरक्की के लिए कर सकें। हर तरह के चलन में आए software और apps के उपयोग का ज्ञान इसमें बेहद आवश्यक है। इसके लिए किसी भी तरह के certificate के अधिक -अनुभव और दिमागी कुशलता कि मांग होती हैं तो अनुभव बंटोरिये और काम में आगे बढ़ते रहिये।

 इन्टीरियर डिजाइनिंग (Interior Designing) 

कहतें हैं कि कोई जगह खुबसूरत नहीं होती, यह हुनर तो उस जगह को खुबसूरत बनाने वाले के हाथ में होता है। किसी साधारण सी दिखने वाली जगह को भी यदि अपनी  कल्पनाओं द्वारा पूरी तरह बदल देने की क्षमता हो तो इसे कहतें हैं -Interior Designing, अब तो हर कोई अपने कार्यस्थल, घर,दुकान,अस्पताल,Hotel और हर एक कोने को अपने मन-मुताबिक सँवारने के लिए किसी Interior Designer से सम्पर्क करते हैं। साज-सजावट की चीजों से लेकर एक-एक फ़र्नीचर Interior Designer  ही चुनता है,  Design करता है और आपकी पसंद को अपनी कल्पनाओं कि मदद से सँवारता हैं। इस कोर्स के लिए कई सारे institute उपलब्ध है जहाँ से आप इसकी तकनीक में प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

 आभूषण डिजाइनिंग (Jewellery Designing )

आभूषण/गहनों से भला किसे प्रेम नहीं होगा। आदिकाल से यह माना जाता है कि यह कार्य केवल के सोनार (Goldsmith) ही कर सकता है। समय बदला और समय के साथ सोच और रचनात्मकता बढ़ी। अब ऐसे कई बड़े-बड़े व्यवसायी भी हैं जिनका मुख्य व्यापार आभूषणों पर आश्रित हैं, जैसे -भारत में तनिष्क tanishq, इसके किसी भी व्यवसाय में अपनी कला से पहचान बनाना चाहतें हैं। पहले यह समझ लीजिये कि इसके लिए केवल और केवल आपका creative होना आवश्यक है और कुछ भी नहीं। अपनी कल्पनाओं की सहायता से आप Message Graphics, Logo, Brochure, न्यूज लेटर, पोस्टर या फिर किसी भी रूप में  ग्राफिक की मदद से  अपनी Art से प्रभावशाली बना सकते हैं। Public Relation,अख़बार, Advertising एजेंसी, Web page, पत्रिका और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसी क्षेत्रों में ग्राफिक डिजाइनर्स की डिमांड रहती है। फिल्म, विज्ञापन और Animation के क्षेत्रों में इनकी डिमांड तेजी से बढ़ी है। अनुभव के साथ कुशलता और माँग बढती है।

 Textile Design

वस्त्रों पर चित्रकारी और तरह-तरह के वस्त्रों की माँग देश-विदेश में भी रहती है ऐसे में वस्त्रों की समझ और इससे जुड़ा व्यवसाय आपके लिए काफ़ी फ़ायदेमंद साबित हो सकता है। इसके लिए भी कई सारे विश्वविद्यालयों ने ऐसे कोर्स भी शुरू किये हैं। आपका काम काफी हद तक Fashion Designer की तरह ही होता है लेकिन फिर भी यह पूरी तरह Fashion Designing नहीं होता। इसमें आपको वस्त्र पर अलग-अलग प्रकार से अपनी हस्तकला और अपनी creativity के साथ पेश करना होता है। इसके लिए सिलाई, कढ़ाई, बुनाई से लेकर धागों, रंगों, की समझ होना बेहद जरूरी है। दरअसल, अब भारत में केवल कपड़े में ही नहीं, बल्कि पर्दों, sofa cover आदि में अंग-अलग pattern की माँग जो बढ़ गई है।

  सेट designing

बड़ी-बड़ी फिल्मों की सबसे बड़ी विशेषता होती है उनके भव्य सेट, मुग़ल-ए-आज़म Mughal-e-Azam, बाजीराव मस्तानी Bajirao Mastani, बाहुबली Bahubali, टाइटैनिक Titanic ऐसी कई फिल्मों ने अपने सेट के कारण प्रसिद्धि पाई। क्यूंकि इन फ़िल्मों के सेट ने इन फिल्मों को अमर बना दिया। यानी एक फ़िल्मी कहानी को साकार करता एक आधार। Set designer फिल्मो के लिए सेट डिज़ाइन करते हैं। इसको सूंदर और खूबसूरत बनाने में Set designer का ही हाथ होता है। फ़िल्म/टीवी शो में जो भी साज-सज्जा होती है और ये सारी जिम्मेदारी Set Designer की ही होती है। Set Designer फ़िल्म की मांग के अनुसार सेट डिज़ाइन करते है। Set designer कहानी की  माँग के मुताबिक ही सेट का Look तैयार करते हैं। Set Designing एक व्यक्ति का काम नही होता है, इसमे बहुत बड़ी Team होती है। इसमे Engineer से लेकर चित्रकार, काष्ठकलाकार Woodworker, Designing Specialist, Art designer आदि लोग काम करते है। आजकल अनेक फ़िल्म institutes में सेट डिजाइनिंग में डिग्री, डिप्लोमा कोर्स कराये जा रहे हैं। इसके लिए आप Bsc in set designing या Fine Arts,Visual Arts, Interior Designing जैसे कोर्स द्वारा इस फील्ड में प्रवेश पा सकते हैं। कोर्स पूरा करने के बाद आप किसी Set Designer के सहायक के रूप में काम की शुरूआत कर सकते है।

 

अलावा नई सोच के साथ आभूषणों की डिजाइन में भी बदलाव की माँग भी बढ़ी है, इसने नए jewellry design करने वाली प्रतिभाओं को नए अवसर दिए हैं। आज के युवा अलग-अलग संस्थाओं से सीखकर इन प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़कर अनुभव प्राप्त करतें हैं।

 ब्राण्ड डिजाइनिंग ( Brand  Designing )

यह एक नया व्यवसाय है। किस भी कम्पनी में किसी भी उत्पाद को launch करने से पहले brand designer यह तय करता है कि उसका logo कैसा होगा ? उत्पाद दिखने में कैसा होगा, उसे किस प्रकार से लोगों के सामने प्रस्तुत किया जाएगा। इस पूरी योजना  तैयारी की Brand Designer की ही होती है ।

 ग्राफिक डिजाइनिंग (Graphic Designing)

ऐसे उत्साही लोग जो तकनीक या विज्ञान के क्षेत्र से ना जुड़े होने के बाद भी सूचना तकनीक IT Industry या Designing की क्षमता देगी करियर को नई उड़ान ''designing'' यह शब्द दिमाग में आते ही तरह-तरह कि रचनात्मक कल्पनाएँ उमड़ने लगती हैं। कभी लगता है कि शायद कपड़ों पर कि गई कारीगरी ही डिजाइनिंग है  तो कभी इन्टरनेट पर तैयार की गई कोई योजना डिजाइनिंग लगती है। आजकल फिल्मों की शूटिंग के लिए जो काल्पनिक जगहें बनाईं जाती है वह भी सेट डिजाइनिंग में ही आता है तो आखिर डिजाइनिंग है क्या और इसमें क्या-क्या शामिल है ? आइये आज यह समझ लेते हैं, किसी भी तरह की कल्पना को अपने हुनर से वास्तविकता में आकार देने की कला डिजाइनिंग कहलाती है। इसके अंतर्गत ढेरों Categories हैं। आप जिस भी तरह के कार्य में कुशल हैं या माहिर हैं बस वही आपकी कला की designing category है। कृपया उसे पहचानकर, समझकर उसमें और दक्षता प्राप्त करने का प्रयास करें। आइये अब सभी प्रकार की  designing category को भी समझ लेतें है-

 फैशन डिजाइनिंग (Fashion Designing )

यदि आपको अलग-अलग प्रकार के कपड़ों को डिजाईन करने, आकार देने और विभिन्न प्रकार के वस्त्रों को अलग-अलग तरह से पहनने, सजाने-सँवारने  का शौक है तो यह करियर आपके लिए बेहद उपयुक्त है। आजकल बहुत सारे fashion designers बहुत सारे हुनरमंद कारीगरों के साथ मिलकर बेहद सुंदर वस्त्रों की कल्पनाओं को मिलकर साकार करतें हैं और अच्छी आमदनी कमातें हैं। हर काम की शुरुआत अकेले ही होती है, आवश्यक नहीं कि किसी बहुत बड़े fashion institute से ही आप यह काम सीखें, यदि आपकी रूचि इस क्षेत्र में है और काबिलियत है तो आप खुद से, इन्टरनेट से और अपने आस-पास के किसी छोटे institute से भी यह हुनर सीख सकतें हैं। आजकल हर कोर्स online क्लासेज से भी किये जातें हैं जिससे आपको मदद मिलेगी।

 वेब डिजाइनिंग (Web Designing )

वेब डिजाइनिंग कई तरह की होती हैं पर इसके लिए आपमें तकनीक और संचार को उपयोग करने का शौक होना चाहिए तभी तो आप web Designing से जुड़ी पहेलियों की गुत्थी सुलझा पाएंगे। आजकल हर संस्था या व्यक्ति किसी ऐसे विशेषज्ञ की तलाश में रहतें हैं जो इन्टरनेट का तो ज्ञाता हो ही इसके अलावा तरह-तरह की वेबसाइट डिजाइनिंग, Canava, Digital development, Online Seo, रोज़मर्रा की तकनीक का उपयोग उनकी तरक्की के लिए कर सकें। हर तरह के चलन में आए software और apps के उपयोग का ज्ञान इसमें बेहद आवश्यक है। इसके लिए किसी भी तरह के certificate के अधिक -अनुभव और दिमागी कुशलता कि मांग होती हैं तो अनुभव बंटोरिये और काम में आगे बढ़ते रहिये।

 इन्टीरियर डिजाइनिंग (Interior Designing) 

कहतें हैं कि कोई जगह खुबसूरत नहीं होती, यह हुनर तो उस जगह को खुबसूरत बनाने वाले के हाथ में होता है। किसी साधारण सी दिखने वाली जगह को भी यदि अपनी  कल्पनाओं द्वारा पूरी तरह बदल देने की क्षमता हो तो इसे कहतें हैं -Interior Designing, अब तो हर कोई अपने कार्यस्थल, घर,दुकान,अस्पताल,Hotel और हर एक कोने को अपने मन-मुताबिक सँवारने के लिए किसी Interior Designer से सम्पर्क करते हैं। साज-सजावट की चीजों से लेकर एक-एक फ़र्नीचर Interior Designer  ही चुनता है,  Design करता है और आपकी पसंद को अपनी कल्पनाओं कि मदद से सँवारता हैं। इस कोर्स के लिए कई सारे institute उपलब्ध है जहाँ से आप इसकी तकनीक में प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

 आभूषण डिजाइनिंग (Jewellery Designing )

आभूषण/गहनों से भला किसे प्रेम नहीं होगा। आदिकाल से यह माना जाता है कि यह कार्य केवल के सोनार (Goldsmith) ही कर सकता है। समय बदला और समय के साथ सोच और रचनात्मकता बढ़ी। अब ऐसे कई बड़े-बड़े व्यवसायी भी हैं जिनका मुख्य व्यापार आभूषणों पर आश्रित हैं, जैसे -भारत में तनिष्क tanishq, इसके किसी भी व्यवसाय में अपनी कला से पहचान बनाना चाहतें हैं। पहले यह समझ लीजिये कि इसके लिए केवल और केवल आपका creative होना आवश्यक है और कुछ भी नहीं। अपनी कल्पनाओं की सहायता से आप Message Graphics, Logo, Brochure, न्यूज लेटर, पोस्टर या फिर किसी भी रूप में  ग्राफिक की मदद से  अपनी Art से प्रभावशाली बना सकते हैं। Public Relation,अख़बार, Advertising एजेंसी, Web page, पत्रिका और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसी क्षेत्रों में ग्राफिक डिजाइनर्स की डिमांड रहती है। फिल्म, विज्ञापन और Animation के क्षेत्रों में इनकी डिमांड तेजी से बढ़ी है। अनुभव के साथ कुशलता और माँग बढती है।

 Textile Design

वस्त्रों पर चित्रकारी और तरह-तरह के वस्त्रों की माँग देश-विदेश में भी रहती है ऐसे में वस्त्रों की समझ और इससे जुड़ा व्यवसाय आपके लिए काफ़ी फ़ायदेमंद साबित हो सकता है। इसके लिए भी कई सारे विश्वविद्यालयों ने ऐसे कोर्स भी शुरू किये हैं। आपका काम काफी हद तक Fashion Designer की तरह ही होता है लेकिन फिर भी यह पूरी तरह Fashion Designing नहीं होता। इसमें आपको वस्त्र पर अलग-अलग प्रकार से अपनी हस्तकला और अपनी creativity के साथ पेश करना होता है। इसके लिए सिलाई, कढ़ाई, बुनाई से लेकर धागों, रंगों, की समझ होना बेहद जरूरी है। दरअसल, अब भारत में केवल कपड़े में ही नहीं, बल्कि पर्दों, sofa cover आदि में अंग-अलग pattern की माँग जो बढ़ गई है।

  सेट designing

बड़ी-बड़ी फिल्मों की सबसे बड़ी विशेषता होती है उनके भव्य सेट, मुग़ल-ए-आज़म Mughal-e-Azam, बाजीराव मस्तानी Bajirao Mastani, बाहुबली Bahubali, टाइटैनिक Titanic ऐसी कई फिल्मों ने अपने सेट के कारण प्रसिद्धि पाई। क्यूंकि इन फ़िल्मों के सेट ने इन फिल्मों को अमर बना दिया। यानी एक फ़िल्मी कहानी को साकार करता एक आधार। Set designer फिल्मो के लिए सेट डिज़ाइन करते हैं। इसको सूंदर और खूबसूरत बनाने में Set designer का ही हाथ होता है। फ़िल्म/टीवी शो में जो भी साज-सज्जा होती है और ये सारी जिम्मेदारी Set Designer की ही होती है। Set Designer फ़िल्म की मांग के अनुसार सेट डिज़ाइन करते है। Set designer कहानी की  माँग के मुताबिक ही सेट का Look तैयार करते हैं। Set Designing एक व्यक्ति का काम नही होता है, इसमे बहुत बड़ी Team होती है। इसमे Engineer से लेकर चित्रकार, काष्ठकलाकार Woodworker, Designing Specialist, Art designer आदि लोग काम करते है। आजकल अनेक फ़िल्म institutes में सेट डिजाइनिंग में डिग्री, डिप्लोमा कोर्स कराये जा रहे हैं। इसके लिए आप Bsc in set designing या Fine Arts,Visual Arts, Interior Designing जैसे कोर्स द्वारा इस फील्ड में प्रवेश पा सकते हैं। कोर्स पूरा करने के बाद आप किसी Set Designer के सहायक के रूप में काम की शुरूआत कर सकते है।